Chaturmas 2022: अगर हमें करनी होगी सभी मनोकामनाएं पूरी, तो चतुर्मास को करें यह काम जरूर...

नमस्कार दोस्तों, हमारी वेबसाइट है जो लाइफ स्टाइल पर आधारित है. इस वेबसाइट में हमारी लाइफ से जुड़ी हर बात की जानकारी बड़े ढंग से की गई है. इस लाइफ स्टाइल आधारित वेबसाइट में रिश्ते नाते, फैशन, देसी नुस्खे, हेल्थ, धार्मिक, फिटनेस, राशिफल के संबंध में जानकारी दी जाती है. हर एक जानकारी पूरे ब्योरे के साथ प्रदान की जाती है. हर टाइम मेरी यही कोशिश रहती है कि कैसे मैं अपने फॉलोअर्स को बेहतरीन और सकारात्मक जवाब दे सकता. आज हम आपको बताएंगे कि अगर हमें चतुर्मास को सभी मनोकामनाएं पूरी करनी है तो करना होगा यह काम. आर्टिकल में सभी सुझाव दिए गए हैं उम्मीद करता हूं कि आप इसे पढ़कर सेटिस्फाई होंगे. आप इस सुझाव को पूरा पढ़िए, तो आइए शुरू करते हैं.

इस साल 10 जुलाई 2022 के दिन रविवार को चतुर्मास देव शयनी एकादशी हो रही है.और इस चतुर्मास के संचालक भगवान विष्णु पाताल लोक में योग निद्रा में चले जाएंगे.


देवशयनी एकादशी से आने वाले 4 महीनों तक सृष्टि के संचालक भगवान विष्णु जी पाताल लोक में योग निद्रा में चले जाएंगे और इसी योग निद्रा में चले जाने को चतुर्मास कहा जाता है. चातुर्मास में भगवान विष्णु योग निद्रा में चले जाने के पश्चात हमारे भूमि पर कोई भी मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है. अगर किसी भी प्रकार का मांगलिक के कार्य किया जाता है तो वह अशुभ माना जाता है. इसी प्रकार कार्तिक माह में देवोत्थान एकादशी पर भगवान विष्णु योग निद्रा से जाकर वापस आएंगे और उसके बाद भगवान विष्णु जी का तुलसी जी के साथ विवाह होगा और  इसी के खत्म होते ही हमारे सभी मांगलिक कार्यक्रम फिर से प्रारंभ हो जाते हैं. और इसी के बाद ही हम किसी भी प्रकार के मांगलिक कार्यक्रम कर सकते हैं और हमारे हिंदू धर्म में इस चतुर्मास की अवधि को बेहद खास माना जाता है क्योंकि इसके दौरान सृष्टि के संचालन भगवान शिव के हाथों में होता है और इस चतुर्मास के अंदर अगर हमें किसी भी प्रकार का कार्य करना है तो हमें भगवान विष्णु जी के साथ शिव जी का भी आशीर्वाद एवं पूजन करना होता है तो आइए चलते हैं हम जानने की कोशिश करते हैं कि चतुर्मास में कौन-कौन सी मनोकामनाएं पूरी होती है.


चतुर्मास में हम क्या कर सकते हैं:-

 चतुर्मास के महीने में हम लोगों को जमीन पर सोना चाहिए और चतुर्मास के महीने में हमें हमारे अंदर के सभी बुराइयों का त्याग कर देना चाहिए एवं व्यक्ति को शांत चित्त होकर भोजन करना चाहिए इसके अलावा चतुर्मास में व्यक्ति को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए और उपवास रखकर स्नान, दान और भगवान विष्णु का जप करना चाहिए.
इसके साथ-साथ चतुर्मास में व्यक्ति को नींबू मिर्च, उड़द और चने को त्याग देना चाहिए और केवल दूध पीकर और  फल खाकर जीवन यापन करता है उसे सभी पाप दूर हो जाते हैं.

हमारी वेबसाइट पर आने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद. हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी. और भी अनेकों प्रकार की जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारी वेबसाइट पर बने रह सकते हैं.

Post a Comment

0 Comments